गनीमत है

 

मौत से डरते हो क्यूँ नासाज़ तबीययत है

ज़िन्दगी जितनी मिली उतनी गनीमत है

 

शहर मे तेरे मुझे तो भीक भी मिलती नहीं

भीक है या ये कदंबोसी की कीमत है

 

बच्चियों को भी ये गिद अब नोच के हैं खा रहे

भूक ये नापाक सी, ये कैसी वहशत है

 

कत्ल करके मुझ पे ही तौहमत लगाते हैं

ये ज़लालत है मेरी या मेरी शोहरत है

 

गर्द के हर लफ्ज़ में कितने ही लम्हे क़ैद हैं

जो हुनर कहते हैं वो बरसों की मेहनत है

 

– निहित कौल ‘गर्द’

Advertisements
Posted in Uncategorized | Leave a comment

नहीं लगता

 

ये कैसा जुर्म है, सज़ा के जो काबिल नहीं लगता

करे जो ख़ून अपना क्यों हमे क़ातिल नहीं लगता

 

वो जिसका हाथ थामे सैंकड़ों मीलों चला दरिया

मिला जा कर समुंदर से तो वो साहिल नहीं लगता

 

गया इक तू तो क्यूँ ख़ाली सा घर लगने लगा मुझको

वो सब जो पा चुका था मैं वो अब हासिल नहीं लगता

 

बेचारा दुश्मनों से था घिरा हथियार जब डाले

वो जब अपना ही बेटा हो तो वो बुज़दिल नहीं लगता

 

चलो ऐ गर्द अब चलने की तैयारी करें हम भी

कि इन दिलकश नज़ारों में भी अब ये दिल नहीं लगता

 

– निहित कौल ‘गर्द’

Posted in Uncategorized | Leave a comment

आ जाओ

 

मुझपे थोड़ा सा करो और रहम आ जाओ

मेरे महबूब तुम्हें मेरी कसम आ जाओ

 

तेरे ज़ुल्मों की तो आदत सी हो गयी है हमे

आओ लो फ़िर से करो हम पे सितम आ जाओ

 

तेरी खुशबू से ही हर घाव को मरहम मिलता

यूं अकेले न भरेंगे ये ज़ख्म  आ जाओ

 

तुम नहीं आओगे अब तुम कभी न आओगे

दिल से मेरे ये मिटाने को वहम आ जाओ

 

‘गर्द’ के घर न सही कब्र पर तो आ जाओ

अब करो आखरी मुझपे ये करम आ जाओ

 

– निहित कौल ‘गर्द’

Posted in Uncategorized | Leave a comment

नहीं हुआ


 

वो दिल का दर्द हाजत-ए-ज़ुबान नहीं हुआ

वो दर्द-ए-दिल दफ़न रहा फुगाँ नहीं हुआ

 

सुना है उनके रूठने में प्यार है बहुत

पता नहीं वो आज क्यों खफ़ा नहीं हुआ

  

कहा वो जो मेरे ज़हन में था तेरे लिए

मगर जो दिल में था वही बयां नहीं हुआ

 

वो चीज़ थी ऐसी की मैं वापस न कर सका

वो क़र्ज़ था ऐसा की वो अदा नहीं हुआ

 

हैरान मत हो गर्द ले तेरे भी घर जला

जो हो रहा है अब यहाँ कहाँ नहीं हुआ

 

– निहित कौल ‘गर्द’

Posted in Uncategorized | Leave a comment

कुछ ज़ख्म

क्यूँ तुम पे अब भी यूँ मरता है दिल

कुछ ज़ख्म भरने से डरता है दिल

 

जाना कि जब तुम भी महफ़िल में होगे

मन ही ये मन में सँवरता है दिल

 

करूँ जब भी कोशिश मैं तुम को भुलाने की

मुझको ही मेरा अखरता है दिल

 

मोहब्बत करी वो भी कातिल से अपने

जाने ये क्यों ऐसा करता है दिल

 

ख़्वाबों में हम तुम उड़े बादलों में

अब न ज़मीं पे उतरता है दिल

 

खो जाऊँ अब मैं निहाँ तुझ में हो जाऊँ

दिल से गुज़ारिश ये करता है दिल

 

देखा तुझे जब तो रोने लगा गर्द

आँखों में क्यों गर्द भर्ता है दिल

 

– निहित कौल ‘गर्द’

Posted in Uncategorized | 2 Comments

नज़र आता नहीं

हाथ में जो है वो मैं ढूँढूं तो क्यों पाता नहीं

देखता तो हूँ तुझे पर तू नज़र आता नहीं

 

था अकेला ही भला, प्यारा मुझे था हर कोई

भीड़ में हूँ अब मगर कोइ मुझे भाता नहीं

 

क्या मैं समझाता तुझे की क्यों हूँ यूं बेताब सा

तुम जो आते हो तो फिर कुछ भी समझ आता नहीं

 

है मुझे एहसास अब कि मैं  पुराना हो गया

गीत जो गाता हूँ मैं वो कोई भी गाता नहीं

 

गर्द ने साबित किया लो झूठ कहते थे सभी

कि दर से तेरे लौट के रुसवा कोई जाता नहीं

 

– निहित कौल ‘गर्द’

Posted in Uncategorized | Leave a comment

बतानी है अभी

सोती यादों की शम्मा फिर से जलानी है अभी

खुद से जो बात छुपाई थी बतानी है अभी

 

ज़िन्दगी भर, मैंने डर कर, ही लिए अपने कदम

ज़ख़्म से पहले लगाया मैंने हर दम मरहम

खर्च साँसे तो बहुत की जिया पर मैं कम

दोनों हाथों से बची जान लुटानी है अभी

 

उम्र भर मैंने जमा कर के जहां भर के ख़िताब

अपने हाथों से पिलाई है अना को ये शराब

खोकले लफ़्ज़ों से भर दी मैंने जीवन की किताब

हाशियों में मुझे लिखनी ये कहानी है अभी

 

– निहित कौल ‘गर्द’

Posted in Uncategorized | Leave a comment