Monthly Archives: March 2019

चलने से पहले

रात यह सुनसान सी आई है दिन ढलने से पहले आ गये मंज़िल पे हम पहला कदम चलने से पहले ख़ौफ़ की आँधी चली, है कांपती हर इक कली, ओड़ती है ओस की चादर वो अब खिलने से पहले क्या … Continue reading

Posted in Hindi - Urdu | Leave a comment